सच यही है कि भाजपा ने जिन संत से आशीर्वाद लिया उनको जेल में रखना पड़ा भारी

सच यही है कि भाजपा ने जिन संत से आशीर्वाद लिया उनको जेल में रखना पड़ा भारी

7 June 2024

Home

लोकसभा के चुनाव में भले भाजपा को बहुमत मिला है लेकिन सरकार बनाने के लिए पूरी सीटे से काफी दूर हो गई है, अब NDA के घठबंधन से सरकार बनेगी और प्रधामंत्री पद पर तीसरी बार नरेंद्र मोदी शपथ ग्रहण करेंगे।

भारतीय जनता पार्टी की कम सीटे आनेपर काफी चर्चाएं चल रही है लेकिन मुख्य मुद्दा पर कोई चर्चा नही कर रहा है । नरेंद्र मोदी को जिस संत ने आशीर्वाद लिया था उनको जेल से रिहा करवाते तो आज भाजपा का लक्ष से कई अधिक सीटे आती क्योंकि उन संत के देशभर में 8 करोड़ से अधिक अनुयाई है उन 8 करोड़ के स्नेहीजन मित्र सभी भाजपा को ही वोट देते जिसके कारण भाजपा का 400 पार का लक्ष्य पूरा हो जाता और आज गठबंधन वाली सरकार नही बनानी पड़ती ।

आपको जानकर हैरानी होगी की जिन संत को जेल में रखा है उनके पास निर्दोष होने के पुख्ता प्रमाण होने के बाद भी आजतक उनको 1 दिन की भी रिहाई नही दिया गया , रिहाई नही करने के पीछे सूत्रो से पता चला था की वे किसी भी पार्टी में फंड नही देते है और जो पैसे आते है उनको जरूरतमंदो की सेवा में लगा देते है दूसरी खास बात यह है कि वे संत किसी भी नेता अगर महंगाई बढ़ाएगा अथवा जनता का शोषण करते दिखेगा तो वे जाहिर में डांट लगाते है जो नेता को अहंकार पर चोट लगती है इसलिए भी उनको रिहा करने से डरते हैं।

आपको बता दे की 20 सालो पहले ही हिंदू संत आशाराम बापू ने नरेंद्र मोदी को प्रधान मंत्री बनने का आशीर्वाद दिया था। और 8 साल के बाद प्रधान मंत्री भी बने, सुनिए इस वीडियो में क्या कहा था…

आपको बता दे की उनके करोड़ो अनुयाइयों का कहना है कि हम जानते है की देश के हित के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आवश्कता है उन्होंने काफी अच्छे कार्य भी किए है लेकिन आज जो देश हित में कार्य किए है उसके पीछे संत आशाराम बापू ने अथाह परिश्रम किया है, देश, संस्कृति , समाज उत्थान और जन जन के कल्याण के कार्य करने के लिए अपना तन मन धन अर्पण कर दिया आज आप उनको जेल से रिहा नही कर रहे है इसलिए हम नोटा दबायेगे अथवा वोट करने नही गए।

आज करोड़ो वोट भाजपा नही मिले इसके पीछे का कारण संत को रिहा नही करना भी कारण हो सकता है । उनके करोड़ो भक्तों की मांग है कि निर्दोष हिंदू संत आशाराम बापू को शीघ्र रिहा किया जाएं।

आपको बता दे की आशाराम बापू ने ईसाई बना दिए गए लाखों हिंदू आदिवासियों की घर वापसी करवा दी थी, करोड़ों लोगों को सनातन धर्म के प्रति कट्टर बना दिया था, सैंकड़ों गुरुकुल और 17000 से अधिक बाल संस्कार केंद्र खोलकर बच्चों को भारतीय संस्कृति के अनुसार जीवन जीने के लिए प्रेरित किया, कत्लखाने जाती हजारों गायों को बचाकर अनेकों गौशालाएं खोल दी, वेलेंटाइन डे के दिन करोडों लोगों द्वारा मातृ-पितृ पूजन शुरू करवा दिया। विदेशों में भी उनके लाखों अनुयायी बन चुके थे और वे भारतीय संस्कृति की वहाँ प्रचार करने लगे थे, करोड़ों लोगों को व्यभिचारी से सदाचारी बना दिया उसके बाद उन करोडों लोगों ने व्यसन छोड़ दिये, सिनेमा में जाना छोड़ दिया, क्लबों में जाना छोड़ दिया, ब्रह्मचर्य का पालन करने लगे, स्वदेशी अपनाने लगे इसके कारण बहुराष्ट्रीय कंपनियों को अरबों-खरबों रुपयों का घाटा हुआ और ईसाई मिशनरियों की धर्मान्तरण की दुकानें बंद होने लगीं, फिर पूरे सुनियोजित ढंग से उनके खिलाफ षड्यंत्र रचा गया।

बताया जाता है कि अरबों-खरबों का कंपनियों को घाटा होने और धर्मान्तरण की दुकानें बंद होने के कारण हिन्दू धर्म व राष्ट्र विरोधी ताकतों ने उनके खिलाफ षड्यंत्र रचा । डॉ. सुब्रमण्यम स्वामी और सुदर्शन न्यूज़ चैनल के सुरेश चव्हाणके जी ने बताया है कि आशाराम बापू को पहले ही बता दिया था कि आप जो धर्मान्तरण रोकने का कार्य कर रहे हैं, उसके कारण वेटिकन सिटी बहुत नाराज है और वे सोनिया गांधी को बोलकर आपको जेल भेजने की तैयारी कर रहा है, पर आशारामजी बापू ने कहा कि “देश व धर्म की रक्षा के लिए सूली पर चढ़ जाऊंगा लेकिन हिन्दू धर्म की हानि नहीं होने दूंगा।”

राष्ट्र संस्कृति और समाज उत्थान करने के कारण आज वे जेल में है, अब उनको शीघ्र रिहा करना चाहिए।

Follow on

Facebook

https://www.facebook.com/SvatantraBharatOfficial/

Instagram:

http://instagram.com/AzaadBharatOrg

Twitter:

twitter.com/AzaadBharatOrg

Telegram:

https://t.me/ojasvihindustan

http://youtube.com/AzaadBharatOrg

Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

Leave a Reply

Translate »