मुगलों का नही भारत के इन महान राजाओं का इतिहास हिंदुओं को पढना चाहिए

मुगलों का नही भारत के इन महान राजाओं का

इतिहास हिंदुओं को पढना चाहिए

 

2 July 2024

Home

<div class=”separator” style=”clear: both;”><a href=”https://blogger.googleusercontent.com/img/b/R29vZ2xl/AVvXsEip7bsZF59pyhukTJkTe7yI9XPS9q6TcdcvSgGTkYoKFfuKGh6J-c5adVxFNy_qP_klgzuDCW2vN5umJey61OwP8AXpuTb6CWpkbh0rbBI83P6JOoTq2yqakXKNyVvpWXPj7psPdD7ZhWJ8H5cYlGkQ_dFtCeceyMjzvLC9uo4mN73yJkkeF6cyZgyLcK0/s1280/IMG-20240701-WA0011.jpg” style=”display: block; padding: 1em 0; text-align: center; clear: right; float: right;”><img alt=”” border=”0″ width=”400″ data-original-height=”1280″ data-original-width=”1280″ src=”https://blogger.googleusercontent.com/img/b/R29vZ2xl/AVvXsEip7bsZF59pyhukTJkTe7yI9XPS9q6TcdcvSgGTkYoKFfuKGh6J-c5adVxFNy_qP_klgzuDCW2vN5umJey61OwP8AXpuTb6CWpkbh0rbBI83P6JOoTq2yqakXKNyVvpWXPj7psPdD7ZhWJ8H5cYlGkQ_dFtCeceyMjzvLC9uo4mN73yJkkeF6cyZgyLcK0/s400/IMG-20240701-WA0011.jpg”/></a></div>

भारत के इतिहास में छेड़छाड़ करके केवल क्रुर लुटेरे बलात्कारी मुगलों और अंग्रेजों को ही पढ़ाया गया, भारत के महान वीर राजाओं को गायब कर दिया जिन्होने मुगलों और अंग्रेजों को धूल चटाई थी, अपने पूर्वज उन महान राजाओं के बारे में सुनकर आप भी गौरविंत महसूस करेंगे ।

 

1. बप्पा रावल – अरबो, तुर्को को कई हराया ओर हिन्दू धरम रक्षक की उपाधि धारण की

 

2. भीम देव सोलंकी द्वितीय – मोहम्मद गौरी को 1178 मे हराया और 2 साल तक जेल मे बंधी बनाये रखा

 

3. पृथ्वीराज चौहान – गौरी को 16 बार हराया और और गोरी बार बार कुरान की कसम खा कर छूट जाता …17वी बार पृथ्वीराज चौहान हारे

 

4. हम्मीरदेव (रणथम्बोर) – खिलजी को 1296 मे अल्लाउदीन ख़िलजी के 20000 की सेना में से 8000 की सेना को काटा और अंत में सभी 3000 राजपूत बलिदान हुए राजपूतनियो ने जोहर कर के इज्जत बचायी .. हिंदुओं की ताकत का लोहा मनवाया

 

5. कान्हड देव सोनिगरा – 1308 जालोर मे अलाउदिन खिलजी से युद्ध किया और सोमनाथ गुजरात से लूटा शिवलिगं वापिस राजपूतो के कब्जे में लिया और युद्ध के दौरान गुप्त रूप से विश्वनीय राजपूतो , चरणो और पुरोहितो द्वारा गुजरात भेजवाया तथा विधि विधान सहित सोमनाथ में स्थापित करवाया

 

6. राणा सागां – बाबर को भिख दी और धोका मिला ओर युद्ध । राणा सांगा के शरीर पर छोटे-बड़े 80 घाव थे, युद्धों में घायल होने के कारण उनके एक हाथ नही था एक पैर नही था, एक आँख नहीं थी उन्होंने अपने जीवन-काल में 100 से भी अधिक युद्ध लड़े थे।

 

7. राणा कुम्भा – अपनी जिदगीँ मे 17 युद्ध लडे एक भी नही हारे।

 

8. जयमाल मेड़तिया – ने एक ही झटके में हाथी का सिर काट डाला था। चित्तोड़ में अकबर से हुए युद्ध में जयमाल राठौड़ पैर जख्मी होने कि वजह से कल्ला जी के कंधे पर बैठ कर युद्ध लड़े थे, ये देखकर सभी युद्ध-रत साथियों को चतुर्भुज भगवान की याद आयी थी, जंग में दोनों के सिर काटने के बाद भी धड़ लड़ते रहे और 8000 राजपूतो की फौज ने 48000 दुश्मन को मार गिराया ! अंत में अकबर ने उनकी वीरता से प्रभावित हो कर जयमाल मेड़तिया और पत्ता जी की मुर्तिया आगरा के किलें में लगवायी थी.

 

9. मानसिहं तोमर – महाराजा मान सिंह तोमर ने ही ग्वालियर किले का पुनरूद्धार कराया और 1510 में सिकंदर लोदी और इब्राहीमलोदी को धूल चटाई

 

10. रानी दुर्गावती – चंदेल राजवंश में जन्मी रानी दुर्गावती राजपूत राजा कीरत राय की बेटी थी। गोंडवाना की महारानी दुर्गावती ने अकबर की गुलामी करने के बजाय उससे युद्ध लड़ा 24 जून 1564 को युद्ध में रानी दुर्गावती ने गंभीर रूप से घायल होने के बाद अपने आपको मुगलों के हाथों अपमान से बचाने के लिए खंजर घोंपकर आत्महत्या कर ली।

 

11. महाराणा प्रताप – इनके बारे में तो सभी जानते ही होंगे … महाराणा प्रताप के भाले का वजन 80 किलो था और कवच का वजन 80 किलो था और कवच, भाला, ढाल, और हाथ मे तलवार का वजन मिलाये तो 207 किलो था।

 

12. जय सिंह जी – जयपुर महाराजा ने जय सिंह जी ने अपनी सूझबूझ से छत्रपति शिवजी को औरंगज़ेब की कैद से निकलवाया बाद में औरंगजेब ने जयसिंह पर शक करके उनकी हत्या विष देकर करवा डाली

 

13. छत्रपति शिवाजी – मराठा वीर वंशज छत्रपति शिवाजी ने औरंगज़ेब को हराया तुर्को और मुगलो को कई बार हराया

 

14. रायमलोत कल्ला जी का धड़ शीश कटने के बाद लड़ता- लड़ता घोड़े पर पत्नी रानी के पास पहुंच गया था तब रानी ने गंगाजल के छींटे डाले तब धड़ शांत हुआ उसके बाद रानी पति कि चिता पर बैठकर सती हो गयी थी।

 

15. सलूम्बर के नवविवाहित रावत रतन सिंह चुण्डावत जी ने युद्ध जाते समय मोह-वश अपनी पत्नी हाड़ा रानी की कोई निशानी मांगी तो रानी ने सोचा ठाकुर युद्ध में मेरे मोह के कारण नही लड़ेंगे तब रानी ने निशानी के तौर

पैर अपना सर काट के दे दिया था, अपनी पत्नी का कटा शीश गले में लटका औरंगजेब की सेना के साथ भयंकर युद्ध किया और वीरता पूर्वक लड़ते हुए अपनी मातृ भूमि के लिए शहीद हो गये थे।

 

16. औरंगज़ेब के नायक तहव्वर खान से गायो को बचाने के लिए पुष्कर में युद्ध हुआ उस युद्ध में 700 मेड़तिया राजपूत वीरगति प्राप्त हुए और 1700 मुग़ल मरे गए पर एक भी गाय कटने न दी उनकी याद में पुष्कर में गौ घाट बना हुआ है।

 

17. एक राजपूत वीर जुंझार जो मुगलो से लड़ते वक्त शीश कटने के बाद भी घंटो लड़ते रहे आज उनका सिर बाड़मेर में है, जहा छोटा मंदिर हैं और धड़ पाकिस्तान में है।

 

18. जोधपुर के यशवंत सिंह के 12 साल के पुत्र पृथ्वी सिंह ने हाथो से औरंगजेब के खूंखार भूखे जंगली शेर का जबड़ा फाड़ डाला था।

 

19. करौली के जादोन राजा अपने सिंहासन पर बैठते वक़्त अपने दोनो हाथ जिन्दा शेरो पर रखते थे।

 

20. हल्दी घाटी की लड़ाई में मेवाड़ से 20000 राजपूत सैनिक थे और अकबर की और से 85000 सैनिक थे फिर भी अकबर की मुगल सेना पर हिंदू भारी पड़े।

 

21. राजस्थान पाली में आउवा के ठाकुर खुशाल सिंह 1857 में अजमेर जा कर अंग्रेज अफसर का सर काट कर ले आये थे और उसका सर अपने किले के बाहर लटकाया था तब से आज दिन तक उनकी याद में मेला लगता है।

 

इसके अतरिक्त बहुत से हिन्दू योद्धा हुए है इस धरती पर जिनका नाम यहाँ नहीं किन्तु इससे उनका भारत को दिया योगदान कम नहीं होगा।

 

Follow on

 

Facebook

 

https://www.facebook.com/SvatantraBharatOfficial/

 

Instagram:

 

http://instagram.com/AzaadBharatOrg

 

Twitter:

 

twitter.com/AzaadBharatOrg

 

Telegram:

 

https://t.me/ojasvihindustan

 

http://youtube.com/AzaadBharatOrg

 

Pinterest : https://goo.gl/o4z4BJ

Leave a Reply

Translate »